src="https://alwingulla.com/88/tag.min.js" data-zone="20313" async data-cfasync="false"> बक्सर का युद्ध |

बक्सर का युद्ध कब हुआ था?

22 अक्टूबर, 1764 को लड़ी गई बक्सर की लड़ाई को भारतीय इतिहास में एक महत्वपूर्ण मोड़ माना जाता है। इसने मुगल साम्राज्य की शक्ति के अंत को चिह्नित किया और भारत पर ब्रिटिश शासन का मार्ग प्रशस्त किया।

युद्ध की पृष्ठभूमि 18वीं शताब्दी में, मुगल साम्राज्य का पतन हो रहा था, और ईस्ट इंडिया कंपनी, जिसने खुद को एक व्यापारिक कंपनी के रूप में भारत में स्थापित किया था, लगातार उपमहाद्वीप पर अपने नियंत्रण का विस्तार कर रही थी। कंपनी पहले ही 1757 में प्लासी की लड़ाई में बंगाल के नवाब, सिराज-उद-दौला और मुगल द्वारा नियुक्त बंगाल के गवर्नर मीर जाफर सहित कई भारतीय शासकों को हरा चुकी थी। कंपनी एक सत्ता संघर्ष में भी शामिल थी। मुगल सम्राट शाह आलम द्वितीय और उनके पूर्व वजीर (प्रधान मंत्री) मीर कासिम के बीच, जिन्होंने सम्राट के खिलाफ विद्रोह किया था और कंपनी के समर्थन की मांग की थी।

बक्सर का युद्ध किस के बीच में हुआ था?

शामिल खिलाड़ी बक्सर की लड़ाई हेक्टर मुनरो के नेतृत्व वाली ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना और मीर कासिम, मुगल सम्राट शाह आलम द्वितीय और अवध के नवाब शुजा-उद-दौला की संयुक्त सेना के बीच लड़ी गई थी। मीर कासिम ने भारत में बढ़ती ब्रिटिश शक्ति का मुकाबला करने के लिए अन्य दो शासकों के साथ गठबंधन किया था।

लड़ाई का क्रम बक्सर का युद्ध वर्तमान बिहार के बक्सर शहर के पास लड़ा गया था। ब्रिटिश सेना में लगभग 7,000 सैनिक शामिल थे, जबकि भारतीय सेना में लगभग 40,000 सैनिक और 40 तोपें थीं। संख्या के मामले में भारतीय सेना के पास एक फायदा था, लेकिन अंग्रेजों के पास बेहतर मारक क्षमता और रणनीति थी।

लड़ाई की शुरुआत भारतीय सेना द्वारा ब्रिटिश तर्ज पर एक ललाट हमले के साथ हुई। हालाँकि, ब्रिटिश तोपखाने ने भारतीय सेना को भारी नुकसान पहुँचाया, और भारतीय घुड़सवार सेना ब्रिटिश सुरक्षा को तोड़ने में असमर्थ रही। इसके बाद अंग्रेजों ने पलटवार किया और कई घंटों की लड़ाई के बाद भारतीय सेना को भगा दिया गया।

परिणाम और महत्व बक्सर की लड़ाई ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए एक निर्णायक जीत थी, और इसने भारत में मुगल साम्राज्य की सत्ता के अंत को चिह्नित किया। कंपनी खुद को भारत में प्रमुख शक्ति के रूप में स्थापित करने में सक्षम थी और उपमहाद्वीप पर अपने नियंत्रण का विस्तार करना जारी रखा। हार का भारतीय समाज और राजनीति पर भी गहरा प्रभाव पड़ा, क्योंकि इसने भारतीय शासकों की कमजोरी को उजागर किया और राजनीतिक अस्थिरता के दौर को जन्म दिया।

बक्सर का युद्ध का परिणाम क्या आया?

बक्सर की लड़ाई का भारत के इतिहास पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ा। ब्रिटिश जीत के बाद, ईस्ट इंडिया कंपनी ने बंगाल, बिहार और उत्तर प्रदेश सहित भारत के एक विशाल क्षेत्र पर नियंत्रण हासिल कर लिया। लड़ाई ने भारत में ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन की शुरुआत को चिह्नित किया और भारतीय उपमहाद्वीप के लिए इसके दूरगामी परिणाम हुए।

बक्सर की लड़ाई के बाद मुगल साम्राज्य का पतन और भारत में ब्रिटिश सत्ता का उदय हुआ। मुगल बादशाह, शाह आलम द्वितीय को अंग्रेजों ने बंदी बना लिया था और ईस्ट इंडिया कंपनी को बंगाल, बिहार और उड़ीसा की दीवानी देने के लिए मजबूर किया था। दीवानी ने ईस्ट इंडिया कंपनी को इन क्षेत्रों में कर एकत्र करने और न्याय करने की अनुमति दी। यह भारतीय उपमहाद्वीप पर कंपनी के अंतिम नियंत्रण की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम था।

बक्सर की लड़ाई ने अंग्रेजों के लिए भारत में अपनी शक्ति को मजबूत करने का मार्ग भी प्रशस्त किया। वे एक विशाल क्षेत्र पर अपना प्रशासनिक और सैन्य नियंत्रण स्थापित करने में सक्षम थे, और इससे उन्हें बाद की लड़ाइयों और संघर्षों में रणनीतिक लाभ मिला। ब्रिटिश भारतीय सैनिकों से मिलकर एक शक्तिशाली सेना बनाने में सक्षम थे, जिसका उपयोग वे उपमहाद्वीप पर अपना नियंत्रण बनाए रखने के लिए करते थे।

बक्सर की लड़ाई भारत के इतिहास में एक महत्वपूर्ण मोड़ थी, क्योंकि इसने ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन की शुरुआत और मुगल साम्राज्य के पतन को चिह्नित किया था। इसका भारतीय समाज, संस्कृति और अर्थव्यवस्था पर भी गहरा प्रभाव पड़ा। अंग्रेजों ने आधुनिक संस्थानों और प्रौद्योगिकी की शुरुआत की, जिसका भारतीय समाज पर स्थायी प्रभाव पड़ा। हालाँकि, ब्रिटिश उपनिवेशवाद के नकारात्मक परिणाम भी थे, जैसे कि भारतीय संसाधनों का शोषण, भेदभावपूर्ण कानूनों को लागू करना और भारतीय संस्कृति और परंपराओं का दमन।

अंत में, बक्सर की लड़ाई भारतीय इतिहास की एक महत्वपूर्ण घटना थी, जिसके उपमहाद्वीप के लिए दूरगामी परिणाम थे। इसने ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन की शुरुआत और मुगल साम्राज्य के पतन को चिह्नित किया। इस लड़ाई ने भारत में ब्रिटिश सत्ता के समेकन का मार्ग प्रशस्त किया और इसका भारतीय समाज, संस्कृति और अर्थव्यवस्था पर गहरा प्रभाव पड़ा।

One thought on “बक्सर का युद्ध”
  1. […] प्लासी की लड़ाई एक महत्वपूर्ण सैन्य मुठभेड़ थी जो 23 जून, 1757 को वर्तमान भारत के बंगाल क्षेत्र में स्थित प्लासी शहर में हुई थी। यह लड़ाई रॉबर्ट क्लाइव के नेतृत्व वाली ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना और बंगाल के नवाब सिराजुद्दौला की सेना के बीच लड़ी गई थी।The Battle of Plassey […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *